Monday February 26, 2018
234x60 ads

पंचदेव मन्दिर, चवालखेत, नई टिहरी टिहरी गढ़वाल

पंचदेव मन्दिर, चवालखेत, नई टिहरी टिहरी गढ़वाल
पंचदेव मन्दिर, चवालखेत, नई टिहरी टिहरी गढ़वालपंचदेव मन्दिर, चवालखेत, नई टिहरी टिहरी गढ़वालपंचदेव मन्दिर, चवालखेत, नई टिहरी टिहरी गढ़वाल
पंचदेव मन्दिर, चवालखेत, नई टिहरी, टिहरी गढ़वाल

नई टिहरी नगर के शिखर पर पुलिस अधीक्षक कार्यालय समीप स्थित है पंचदेव मन्दिर। नगर की तरह ही पंचदेव मन्दिर भी ज्यादा पुराना नहीं है। मन्दिर की स्थापना के विषय में मन्दिर के पुजारी श्री मुनेन्द्र दत्त उनियाल जी के अनुसार टिहरी बांध परियोजना के कारण जब टिहरी नगर का विस्थापन होने लगा तो पहाड़ी की ढाल पर नये नगर की स्थापना करने से पूर्व टिहरी बांध परियोजना के श्री डी.के. गुप्ता जी ने पहाड़ी के शिखर पर एक भव्य मन्दिर की स्थापना कराई ताकि नये नगर का निर्माण कार्य निर्विघ्न किया जा सके। मन्दिर पूर्ण होने के उपरान्त संवत २०५० दिन सोमवार दिनांक १८-अक्टूबर-१९९३ को श्री एस० पी० सिंह अध्यक्ष एवं प्रबन्ध निदेशक टिहरी जल विकास निगम के द्वारा मन्दिर की मूर्तियों की प्राण-प्रतिष्ठा की गई तथा मन्दिर का कार्यभार तथा व्यवस्था-प्रबन्धन मन्दिर के पुजारी श्री मुनेन्द्र दत्त उनियाल जी के सुपुर्द कर दिया गया। उनियाल जी के अनुसार मंदिर में पांच देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं जिसके कारण मन्दिर का नाम पंचदेव मन्दिर पड़ा। मन्दिर के अन्दर तीन कक्ष बने हैं जिनमें सामने वाले कक्ष में भगवान शिव, दायीं तरफ वाले कक्ष में माता लक्ष्मी तथा विघ्नहर्ता गणेश और बायीं तरफ वाले कक्ष में माता भगवती की भव्य मूर्तियां स्थापित हैं। मन्दिर में हनुमान जी की एक मूर्ति तथा एक शिवलिंग भी स्थापित है। मन्दिर की निर्माणकला आधुनिक मन्दिरों की तरह है। मन्दिर के बाहर तीन स्तंभों पर खड़े एक छत्र के नीचे केसरिया हनुमान की एक सुन्दर मूर्ति स्थापित है। मन्दिर व मन्दिर परिसर को देखकर लगता है कि निर्माणकर्ता इकाई ने मन्दिर के निर्माण में कोई कसर नहीं छोड़ी है। मन्दिर परिसर से चारों तरफ के मनोरम दर्शन तथा सुदूर गिरिराज हिमालय के विहंगम दर्शन होते हैं।

पंचदेव मन्दिर के ठीक पीछे सूरी देवी का मन्दिर हैं पुजारी श्री मुनेन्द्र दत्त उनियाल जी के अनुसार यह एक बहुत प्राचीन मन्दिर है। पहले यहां पर एक छोटा सा मन्दिर हुआ करता था लेकिन बाद में उसका जीर्णोद्धार करके नया मन्दिर बना दिया गया। कहा जाता है कि इस मन्दिर की स्थापना माननीय टिहरी नरेश स्वर्गीय श्री नरेन्द्रशाह जी द्वारा ग्राम सभा पीपली के ग्रामीणों के आग्रह पर कराई गई थी। सूरी माता को पनियारी देवी के नाम से भी जाना जाता है मान्यता है कि आस-पास के क्षेत्रों में जब वर्षा नहीं होती थी तो ग्रामीण पनियारी देवी (माता सूरी देवी) की उपासाना करते थे जिसके बाद वर्षा अवश्य होती थी। हालांकि इस तरह के प्रसंग उत्तराखण्ड में कई मन्दिरों के बारे में सुनने को मिलते हैं परन्तु आस्था और श्रद्धा से जुड़ा प्रकरण होने के कारण इस तरह के तथ्य सत्य प्रतीत होते हैं। इसके आलावा पुजारी श्री मुनेन्द्र दत्त उनियाल से मन्दिर की पौराणिकता से संबन्धित कोई जानकारी नहीं दे पाये। मन्दिर परिसर में बैसाख मास के ५ गते को एक छोटे से मेले का अयोजन होता है जिसमें स्थानीय निवासी माता के दर्शनकर कृतार्थ होते हैं। इसके अलावा प्रत्येक सोमवार, श्रावण मास के सोमवार तथा नवरात्रों में स्थानीय निवासी प्रसाद चढ़ाने तथा दर्शन करने आते हैं।



फोटो गैलरी : पंचदेव मन्दिर, चवालखेत, नई टिहरी टिहरी गढ़वाल

Comments

1

babli kala | January 08, 2015
very intesting place i love the place every body really come hear hear is naturally beautiful place

Leave your comment

Your Name
Email ID
City
Comment
     

Nearest Locations

Success