Monday February 26, 2018
234x60 ads

शंकरमठ, भक्तियाना श्रीनगर

शंकरमठ, भक्तियाना श्रीनगर
शंकरमठ, भक्तियाना श्रीनगरशंकरमठ, भक्तियाना श्रीनगरशंकरमठ, भक्तियाना श्रीनगर
शंकरमठ भक्तियाना, श्रीनगर

पालीटेक्निक कालेज श्रीनगर एवं एस० एस० बी० के मध्य में गंगातट के केदारघाट के ऊपर स्थित शंकरमठ श्रीनगर का प्राचीन मन्दिर है। उत्तराखण्ड शैली में बना हुआ यह मन्दिर बहुत आकर्षक है। हालांकि शंकरमठ नाम से इस मन्दिर मठ के शैव होने का अनुमान लगता है परन्तु वस्तुत: यह मन्दिर भगवान विष्णु एवं देवी लक्ष्मी का मन्दिर है। भगवान लक्ष्मीनारायण की एक भव्य प्रतिमा इस मन्दिर के गर्भगृह में स्थापित है। ऐसा कहा जाता है कि इस मन्दिर की स्थापना आदि गुरू शंकराचार्य ने की थी। परन्तु गढ़वाल के इतिहासकार हरिकृष्ण रतूड़ी के अनुसार गढ़वाल के राजा प्रदीपशाह ने अपने यशस्वी मत्रीं धर्माधिकारी शंकर डोभाल की स्मृति में सम्वत्‌ १७६३ विक्रमी में इस मन्दिर को बनवाया था। इतिहासकार श्री शिव प्रसाद नैथानी के अनुसार "शंकर डोभाल नाम का देवेत्री/धर्माधिकारी तथा वख्शी फतेहपतिशाह गढ़नरेश के राज्यकाल के प्रारंभिक दिनों में था। उसे राजा (वस्तुत: राजमाता) ने १६७० ईसवी के ताम्रपत्र द्वारा मंदिर के आस-पास की भूमि का विषद क्षेत्र मठ/ठाकुरद्वारा बनाने हेतु प्रदान किया था। तब शंकर डोभाल ने स्वामी जगन्नाथ भागवती के शिष्य स्वामी भगवानदास को ठाकुरद्वारा बनवाकर तथा भूसंम्पत्ति को राजाज्ञा से प्रदान करवाकर मठपति बनवाया था। शंकर डोभाल क्योंकि स्वयं भी इसी मठ में रहता था अत: उसके द्वारा निर्मित, सेवित एवं निरीक्षित मठ मन्दिर के साथ उसका नाम जनमानस भुला न सका और शंकरमठ नाम प्रसिद्ध हो गया।"

मन्दिर के भीतर अत्यन्त कलापूर्ण मूर्तियां हैं तथा मन्दिर के दरवाजे पर लगे शिलालेख से इस मन्दिर की प्राचीनता का साक्ष्य मिलता है। मन्दिर के गर्भगृह में लक्ष्मीनारायण की १.४८ मीटर ऊंची सर्वांग सुन्दर मूर्ति विराजमान है। जिसमें विष्णु भगवान के चतुर्भुजी रूप के दर्शन होते हैं। साथ में देवी लक्ष्मी की विश्वमोहिनी मूर्ति है। कहा जाता है कि यह स्वरूप उन्होने उस विराट स्वंयवर में धारण किया था जहां देवर्षि नारदजी को बंदर का स्वरूप मिला था। नारद मोह पुराण की प्रसिद्ध घटना यहीं हुई थी। केदारखण्ड से प्राप्त वर्णन के अनुसार इसी स्थान पर "अश्वतीर्थ" था और यहीं देवल ऋषि और राजा नहुष ने तपस्या की थी।



फोटो गैलरी : शंकरमठ, भक्तियाना श्रीनगर

Comments

1

bottes femme nubuck | October 31, 2013
Appreciate you sharing, great blog.Thanks Again. Cool.

2

dortmund trikot 10 | August 31, 2013
I think that you could do with some pics to drive the message home a little bit, but other than that, this is great blog. A great read. I will certainly be back.

Leave your comment

Your Name
Email ID
City
Comment
     

Nearest Locations

Success